संख्‍या-3369/सोलह-1-2010-03(12)/2009

उत्‍तर प्रदेश शासन

प्राविधिक शिक्षा अनुभाग-1 लखनऊ : दिनांक 19 अक्‍­बर, 2010

कार्यालय-ज्ञाप

विषय:-वेतन समिति, उ. प्र. 2008 की संस्‍तुतियों को स्‍वीकार किये जाने के फलस्‍वरूप स्‍वायत्‍तशासी शासकीय अनुदानित अभियंत्रण संस्‍थाओं के दिनांक 1.1.2006 के पूर्व के पेंशनरों/पारिवारिक पेंशनरों की पेंशन/पारिवारिक पेंशन का अभिनवीकरण/पुनरीक्षण।

उपरोक्‍त विषय पर अधोहस्‍ताक्षरी को यह कहने का निदेश हुआ है कि राज्‍यपाल महोदय ने स्‍वायत्‍तशासी शासीय अनुदानित अभियंत्रण संस्‍थाओं के दिनांक 1.1.2006 के पूर्व के पेंशनरों/पारिवारिक पेंशनरों की पेंशन के अभिनवीकरण/पुनरीक्षण के संबंध में निम्‍न आदेश प्रदान किये हैं।

2- इन आदेशों के अन्‍तर्गत-

(क) ''वर्तमान पेंशनर'' अथवा ''वर्तमान पारिवारिक पेंशनर'' का तात्‍पर्य उन पेंशनरों से है जो दिनांक 31.12.2005 को पेंशन/पारिवारिक पेंशन आहरित कर रहे थे या पेंशन/पारिवारिक पेंशन के हकदार थे।

(ख) वर्तमान पेंशन/पारिवारिक पेंशन का तात्‍पर्य मूल पेंशन (राशिकृत भाग, यदि कोई हो, को सम्‍मिलित करते हुए) जो दिनांक 31.12.2005 को देय थी, से है।

(ग) ''वर्तमान महंगाई राहत'' का तात्‍पर्य पेंशनरों/पारिवारिक पेंशनरों को 536 उपभोक्‍ता मूल्‍य सूचकांक के आधार पर मिल रही राहत से है।

3- वर्तमान पेंशनरों/पारिवारिक पेंशनरों की पेंशन/पारिवारिक पेंशन का समेकन दिनांक 1.1.2006 से निम्‍नलिखित धनराशियों को सम्‍मिलित करके किया जायेगा।

(1) वर्तमान पेंशन/पारिवारिक पेंशन

(2) महंगाई पेंशन जहां अनुमन्‍य हो

(3) वर्तमान महंगाई राहत

(4) वर्तमान पेंशन/पारिवारिक पेंशन का 40 प्रतिशत फिटमेन्‍ट वेटेज के रूप में।फिटमेन्‍ट वेटेज की धनराशि की गणना मूल पेंशन पर की जायेगी अर्थात् महंगाई पेंशन पर वेटेज देय न होगा।

इस प्रकार आगणित पेंशन/पारिवारिक पेंशन को दिनांक 01.01.2006 से मूल पेंशन माना जायेगा।

किन्‍तु प्रतिबन्‍ध यह होगा कि पेंशनर की पेंशन की धनराशि सेवानिवृत्‍त के समय उसके द्वारा धारित पद के दिनांक 1.1.1996 से लागू वेतनमान के दिनांक 1.1.2006 से प्रतिस्‍थापित पे-बैण्‍ड के न्‍यूनतम तथा संबंधित ग्रेड पे के योग के 50 प्रतिशत की धनराशि से कम नहीं होगी। जहां अर्हकारी सेवा 33 वर्ष से कम है वहां यह धनराशि अनुपातिक रूप में कम कर दी जायेगी।

इसी प्रकार पारिवारिक पेंशन की धनराशि संबंधित शिक्षक/शिक्षणेत्‍तर कर्मचारी द्वारा धारित/पद के दिनांक 1.1.1996 से लागू वेतनमान के दिनांक 01.01.2006 से प्रतिस्‍थापित पे-बैण्‍ड के न्‍यूनतम तथा संबंधित ग्रेड-पे के योग के 30 प्रतिशत से कम धनराशि नहीं होगी।

3. (2) क्‍योंकि उपरोक्‍तानुसार आगणित पेंशन की धनराशि में पेंशन राशिकरण का अंश भी सम्‍मिलित है, इसलिए मासिक भुगतान में उक्‍त अंश को घटा दिया जायेगा।

3. (3) वरिष्‍ठ पेंशनर/पारिवारिक पेंशनरों की पेंशन/पारिवारिक पेंशन की धनराशि में निम्‍न प्रकार वृद्धि की जायेंगी।

पेंशनर/पारिवारिक पेंशनर की आयु

अतिरिक्‍त पेंशन/पारिवारिक पेंशनर की धनराशि

80 वर्ष से अधिक परन्‍तु 85 वर्ष से कम

पुनरीक्षित पेंशन/पारिवारिक पेंशन की धनराशि का 20 प्रतिशत प्रतिमाह

85 वर्ष से अधिक परन्‍तु 90 वर्ष से कम

पुनरीक्षित पेंशन/पारिवारिक पेंशन की धनराशि का 30 प्रतिशत प्रतिमाह

90 वर्ष से अधिक परन्‍तु 95 वर्ष से कम

पुनरीक्षित पेंशन/पारिवारिक पेंशन की धनराशि का 40 प्रतिशत प्रतिमाह

95 वर्ष से अधिक परन्‍तु 100 वर्ष से कम

पुनरीक्षित पेंशन/पारिवारिक पेंशन की धनराशि का 50 प्रतिशत प्रतिमाह

100 वर्ष की आयु या उससे अधिक

पुनरीक्षित पेंशन/पारिवारिक पेंशन की धनराशि का 100 प्रतिशत प्रतिमाह

पेंशन भुगतानादेश में अतिरिक्‍त पेंशन की धनराशि अलग से दर्शायी जायेगी। उदाहरणार्थ यदि पेंशनर की आयु 80 वर्ष से अधिक है और उसकी पेंशन की धनराशि रु. 10,000/- है। उस दशा में उसके सम्‍मुख रु. 2000/- प्रतिमाह अंकित किया जायेगा। इसी प्रकार से उपरोक्‍त तालिका में दर्शायी गयी पेंशन एवं अतिरिक्‍त पेंशन दर्शायी जायेगी। उपरोक्‍त प्रकरणों में पेंशनर/पारिवारिक पेंशनरों की जन्‍मतिथि अवश्‍य अंकित की जायेगी, जिससे कि भुगतान में किठनाई न हो।

3(4)- वर्तमान में ऐसे पेंशनर जो दिनांक 31.3.1985 और 31.12.1985 के बीच सेवानिवृत्‍त हुए और जिन्‍ह- ''वैयक्‍तिक पेंशन'' स्‍वीकृत की गई वे उसे पूर्व की भांति प्राप्‍त करते रह-गे तथा उसे पेंशन समेंकन में शामिल नहीं किया जायेगा।

3(5)- चूंकि उपरोक्‍त प्रस्‍तर-3(1) के अनुसार पेंशन/ पारिवारिक पेंशन का समेकन औसत मूल्‍य सूचकांक 536 के अनुसार स्‍वीकृत महंगाई राहत को सम्‍मिलित कर किया जायेगा, अत: दिनांक 01.01.2006 के उपरान्‍त उक्‍त मूल्‍य सूचकांक के ऊपर महंगाई के लिए निर्धारित महंगाई राहत की जो किश्‍त राजकीय पेंशनर्स को शासनादेशों से स्‍वीकृत की जा चुकी है/ की जायेगी, इन पेंशनर्स को भी तद्नुसार अनुमन्‍य होगी।

4- वरिष्‍ठ पेंशनर/पारिवारिक पेंशनरों की पेंशन/पारिवारिक पेंशन की धनराशि में वृद्धि उपरोक्‍त प्रस्‍तर-3(3) के अनुसार अनुमन्‍य होगी। इन पेंशनरों/पारिवारिक पेंशनरों को सामान्‍य पेंशन की धनराशि पर अनुमन्‍य की गई अतिरिक्‍त पेंशन पर समय-समय पर निर्गत महंगाई राहत भी अनुमन्‍य होगी।

5- पेंशन/पारिवारिक पेंशन पाने वाले पेंशनरों के मामले में इन आदेशों के अन्‍तर्गत पेंशन/पारिवारिक पेंशन के पुनरीक्षण हेतु समस्‍त पेंशन स्‍वीकर्ता अधिकारियों को एतद्द्वारा अधिकृत किया जाता है। पेंशन स्‍वीकर्ता अधिकारी द्वारा प्रत्‍येक पेंशन भुगतान प्राधिकार पत्र (पी.पी.ओ.) के दोनों अर्धभागों पर पुनरीक्षित पेंशन की धनराशि अंकित कर दी जायेगी।

उपर्युक्‍त प्रस्‍तर-3(1) में निहित प्रक्रिया के आधार पर समेकित पेंशन/पारिवारिक पेंशन दिनांक 01.01.2006 से मूल पेंशन मानी जायेगी और इस पेंशन/पारिवारिक पेंशन की धनराशि पर इसके उपरान्‍त स्‍वीकृत महंगाई राहत अनुमन्‍य होगी।

6- अवशेष भुगतान की प्रक्रिया-

दिनांक 01 जनवरी, 2006 दिनांक 30 नवम्‍बर, 2008 तक के देय पेंशन अवशेष का 20 प्रतिशत भाग वित्‍तीय वर्ष 2010-11, 40 प्रतिशत वित्‍तीय वर्ष 2011-12 में तथा शेष 40 प्रतिशत का भुगतान वित्‍तीय वर्ष 2012-13 में नकद किया जायेगा। 80 वर्ष या उससे अधिक आयु के पेंशनरों को देय संपूर्ण अवशेष का भुगतान चालू वित्‍तीय वर्ष में ही किया जाय।

किसी पेंशनर/पारिवारिक पेंशनर को देय अवशेष भुगतान प्राप्‍त किये जाने के पूर्व मृत्‍यु हो जाने की दशा में ऐसे पेंशनर/पारिवारिक पेंशनर के शेष देय भुगतान (अनुवर्ती वर्षो के देय भुगतान सहित) की धनराशि ऐसे पेंशनर/पारिवारिक पेंशनर द्वारा अधिकृत व्‍यक्‍ति को अथवा नियमानुसार विधिक उत्‍तराधिकारी को अविलम्‍ब एकमुश्‍त नकद भुगतान कर दिये जायें।

8- यह आदेश वित्‍त विभाग के अशासकीय संख्‍या-ई-11-2055/ दस-2010, दिनांक 18 अक्‍­टूबर, 2010 में प्राप्‍त उनकी सहमति से निर्गत किये जा रहे हैं।

(वृन्‍दा सरूप)

प्रमुख सचिव।